Substances around us! (हमारे आस पास के पदार्थ)

अध्याय 1

Physical nature of matter (पदार्थ का भौतिक स्वरूप)

प्राचीन काल से ही मनुष्य अपने आसपास को समझने का प्रयास करता रहा भारत के प्राचीन दार्शनिकों ने पदार्थ को पंचतत्व में वर्गीकृत किया है जिसे पांच तत्व कहा गया है यह पांच तत्व निम्नलिखित हैं वायु ,पृथ्वी ,अग्नि ,जल और आकाश इन्हीं पांच तत्वों से सभी वस्तुएं बनी हैं

वे वस्तुएं जिनका द्रव्यमान होता है और स्थान (आयतन ) घेरती हैं पदार्थ कहलाती हैं

आधुनिक वैज्ञानिकों ने पदार्थ को भौतिक गुण धर्मों एवं रासायनिक प्रक्रिया के आधार पर वर्गीकृत किया है आधुनिक वैज्ञानिकों का कहना है कि पदार्थ कणॊ से मिलकर बना होता है

Characteristics and properties of particles of matter (पदार्थ के कणों के अभिलक्षण एवं गुण)

1 पदार्थ के कणों के बीच में रिक्त स्थान होता है

जब हम नींबू पानी का शरबत बनाते हैं तो एक पदार्थ के कारण दूसरे पदार्थ के कणों के रिक्त स्थानों में समावेशित या प्रवेश समावेशित हो जाते हैं जिससे यह प्रतीत होता है कि पदार्थ के कणों के बीच में पर्याप्त रिक्त स्थान होता है

2 पदार्थ के कण निरंतर गतिशील होते हैं

पदार्थ के कण निरंतर गतिशील होते हैं अर्थात उनमें में गतिज ऊर्जा होती है तापमान बढ़ने से कणों की गतिज ऊर्जा तेजी से बढ़ जाती है इसीलिए हम कह सकते हैं कि तापमान बढ़ने से कणों की गतिज ऊर्जा भी बढ़ती है

दो विभिन्न पदार्थों के कणों का स्वता मिलना विसरण कहलाता है गर्म करने पर विसरण तेजी से बढ़ता है
3 पदार्थ के कारण एक दूसरे को आकर्षित करते हैं

पदार्थ के कणों के बीच में एक प्रकार का आकर्षण बल पाया जाता है जो कि उन्हें एक दूसरे की ओर आकर्षित करने में सहायता करता है जिसके कारण पदार्थ के का एक दूसरे को आकर्षित करते हैं

Some important question


प्रo1 – निम्नलिखित में से कौन-से पदार्थ हैं ? कुर्सी, वायु, स्नेह, गंध, घृणा, बादाम, विचार, शीत, नींबू पानी, इत्र की सुगंध l
उत्तर - कुर्सी, वायु, बादाम और नींबू पानी पदार्थ के उदहारण है, क्योंकि इनका कुछ द्रव्यमान होता है और ये स्थान भी घेरते हैं l

प्रo2 – निम्नलिखित प्रेक्षण के कारण बताये गर्मा-गरम खाने की गंध कई मीटर दूर से ही आपके पास पहुँच जाती है लेकिन ठंडे खाने की महक लेने के लिए आपको उसके पास जाना पड़ता है ?
उत्तर – क्योंकि गर्म खाने का तापमान अधिक होने के कारण खाने से निकलने वाली गैस के कणों की गति बढ़ जाती है, जिससे उसकी गतिज उर्जा भी बढ़ जाती है तथा ठंडे खाने की महक की तुलना में विसरण तेजी से होता है l

प्रo3 – स्विमिंग पूल में गोताखोर पानी काट पाता है l इससे पदार्थ का कौन-सा गुण प्रेक्षित होता है ?
उत्तर - स्विमिंग पूल में गोताखोर पानी काट पाता है l इससे पदार्थ के निम्न गुण प्रेक्षित होते हैं :-
  • पानी के कणों के बीच की दूरी अधिक होती है l
  • पानी के कणों के बीच आकर्षण बल कम होता है l

प्रo4 – पदार्थ की कणों की क्या विशेषताएँ होती हैं ?
उत्तर – पदार्थ के कणों की निम्नलिखित विशेषताएँ होती हैं :-
  • पदार्थ के कणों के बीच रिक्त स्थान होता है l
  • पदार्थ के कण एक दूसरे को आकर्षित करते हैं l
  • पदार्थ के कण निरंतर गतिशील होते हैं l

पदार्थ की अवस्थाएं

हमारे आस पास पदार्थ मुख्य तीन अवस्थाओं में पाए जाते हैं ठोस द्रव और गैस यह पदार्थ की अवस्थाएं होती हैं

ठोस अवस्था

जब हम किसी पदार्थ पर बाह्य बल लगाते हैं तो उसके आकार में कोई परिवर्तन नहीं होता है तो हम ऐसे पदार्थों को ठोस अवस्था के पदार्थ कहते हैंअर्थात किसी पदार्थ पर बल लगाने पर उसकी स्थिति और उसके आकार में जब कोई परिवर्तन नहीं होता है तो ऐसे पदार्थ ठोस अवस्था में होते हैं जैसे कि लोहे का गोला लोहे की रॉड पत्थर इत्यादि

द्रव अवस्था

जब हम किसी पदार्थ को बर्तन में डालते हैं तो वह बर्तन का यदि आकार ग्रहण कर लेता है तो उसे हम तरल अवस्था या द्रव अवस्था के पदार्थ कहते हैं| जैसे कि पानी तेल शहद आदि

गैसीय अवस्था

पदार्थ की वह अवस्था जिसमें वह ना तो निश्चित आकार में होता है और ना ही नियत आयतन में होता है तो पदार्थ की उस अवस्था को गैसीय अवस्था कहते हैं जैसे कि सीएनजी(CNG), एलपीजी(LPG), CO2

ठोसॏ और द्रवॊ की तुलना में गैसों की संपीड्यता काफी अधिक होती है

क्या पदार्थ अपनी अवस्था को बदल सकता है

पदार्थ अपनी अवस्था को भौतिक एवं रासायनिक अभिक्रिया के आधार पर बदल सकता है

तापमान परिवर्तन का प्रभाव

ठोस के तापमान को बढ़ाने पर उसके गतिज ऊर्जा बढ़ जाती है गतिज ऊर्जा में वृद्धि होने के कारण अधिक तेजी से कंपन करने लगते हैं उस्मा के द्वारा प्रदत की गई ऊर्जा कणों के बीच के आकर्षण बल को पार कर लेती है इस कारण अपने नियत स्थान को छोड़कर अधिक स्वतंत्र होकर गति करने लगते हैं एक अवस्था ऐसी आती है जब ठोस पिघलकर द्रव में परिवर्तित हो जाता है जिस न्यूनतम तापमान पर ठोस का द्रव बन जाता है उसका गलनांक कहलाता है

दब परिवर्तन का प्रभाव

दाब बढ़ाने या घटाने पर पदार्थ की अवस्था में परिवर्तन होता है

जैसे कि जब वायुमंडलीय दाब का माप 1 (atm) हो तो ठोस CO2 द्रव अवस्था में आए बिना सीधे गैस अवस्था में परिवर्तित हो जाती है

वाष्पीकरण

पदार्थ के कण हमेशा गतिशील होते हैं और कभी रुकते नहीं है एक निश्चित तापमान पर गैस द्रव्य ठोस के में विभिन्न मात्रा में गतिज ऊर्जा होती है धर्मों में सत्य पर स्थित कालों के कुछ अंशों में इतनी गतिज ऊर्जा होती है कि वह दूसरे कल उनके आकर्षण बल से मुक्त हो जाते हैं क्वथनांक एक पथ नाक से कम तापमान पर द्रव के वाक्य में परिवर्तन होने की इस प्रक्रिया को वशीकरण कहते हैं